HomeEssay

Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana in Hindi Essay 2018

Like Tweet Pin it Share Share Email

What is PMKVY in Hindi? Essay on Pradhan Mantri Kausal Vikas Yojana in Hindi

प्रधानमंत्री, श्री नरेन्द्र मोदी, ने अपने स्वप्न “स्किल इंडिया” को, नई दिल्ली में “राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन” के रुप में, शुरु किया। जिसमें स्पष्ट किया कि ये सरकार की गरीबी के खिलाफ एक जंग हैं और भारत का प्रत्येक गरीब और वंचित युवा इस जंग का सिपाही है। इस योजना की घोषणा भारत के प्रधानमंत्री, नरेंन्द्र मोदी ने 15 जुलाई 2015 को अन्तर्राष्ट्रीय युवा कौशल दिवस पर की थी। साथ ही इस योजना का लोगो (प्रतीक चिन्ह) और टैग लाइन का अनावरण भी किया था।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना क्या है ? कैसे पाये रोजगार जानिये

मित्रों, आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से प्रधानमंत्री जी द्वारा बेरोज़गार को दूर करने के लिए जो योजना निकाली गई है आज उसके बारें में आपको बताएँगे | आपको यह भी बताएंगे कि किस प्रकार से यह योजना आपको रोजगार दिलाने में सफल होगी | आप किस प्रकार इस योजना का लाभ उठा सकते हैं |

देश के उज्जवल भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए और बेरोजगारी की समस्या को देखते हुए प्रधान मंत्री जी ने, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना यह New National Skill Development and Entrepreneurship Policy 2015 राष्ट्रीय कौशल विकास योजना के तहत इस योजना को लाया गया हैं |

प्रधानमंत्री मोदी ने नीति आयोग से हुई मीटिंग के बाद स्किल डेवेलोपमेंट मिशन के तहत प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की घोषणा की जिसे कौशल विकास योजना का नाम दिया गया | प्रधान मंत्री जी ने कहा कि हमारा देश दुनियाँ में सबसे अधिक युवा शक्ति वाला देश हैं और इसे ही देश की सबसे प्रबल ताकत बताया हैं |

देश की गरीबी को हटाने मे इस योजना का देश के हित में विशेष योगदान रहेगा | मोदी जी ने कहा सबसे पहले हमें दुनियाँ की सभी आवश्यक्ताओं को लेकर एक मानचित्र बनाना होगा उसके बाद हम उनके अनुसार मानव संसाधन तैयार करेंगे जिससे देश को उन्नति की ओर अग्रसर किया जा सकें |

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का उद्देश्य –

· इस योजना के पहले वर्ष में 24 लाख वर्कर्स को शामिल किया जाएगा इसके बाद वर्ष 2022 तक यह संख्या 40.2 करोड़ ले जाने की योजना हैं |

· राष्ट्रीय कौशल विकास का मुख्य उद्देश्य देश में सभी युवा वर्ग को संगठित करके उनके कौशल को निखार कर उनकी योग्यतानुसार रोजगार से देना रहेगा |

· राष्ट्रीय कौशल विकास के लिए लोग अधिक से अधिक संख्या में जुड़ सके इसके लिए उन्हें लोन की सुविधा प्रदान की जाएगी जिससे वो इस दिशा में कार्य करने में सक्षम हो सकें |

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि देश की जनसंख्या में 65 % युवा हैं जिनकी उम्र 35 से कम हैं यदि इन्हें समय पर रोजगार दिया जाए तो आसानी से देश उन्नति की ओर बढ़ सकता है | इस लिए राष्ट्रिय कौशल विकास योजना देश को उन्नतिशील बनाने हेतु लायी जा रही है |

मोदी जी ने यह भी कहा कि यदि हायर एजुकेशन के बाद तो रोजगार मिलता हैं लेकिन इसके अलावा भी कुछ ऐसी ट्रेनिंग सुविधायें देनी होंगी जिससे किसी विशेष क्षेत्र में कौशल अर्जित कर रोजगार आसानी से प्राप्त कर सके जिसमे कम लागत में अधिक काम हो सकें |

कैसे जुड़े प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना से ?

· सरकार ने कई टेलिकॉम कंपनी को इस कार्य में अपने साथ रखा है |

· यह टेलिकॉम कंपनी SMS द्वारा इस योजना को सभी लोगो तक पहुँचाने का कार्य करती है |

· इसके साथ ही SMS में एक ट्रोल नंबर दिया जायेगा जिस पर कैंडिडेट को मिस कॉल देना होगा |

· मिस कॉल के तुरंत बाद आपको ऑटो मेटीकली एक नंबर से कॉल बेक आएगा जिसके जरिये आप IVR सुविधा से जुड़ जायेंगे |

· इसके बाद कैंडिडेट को अपनी जानकारी दिए गये निर्देशानुसार भेजनी होगी | यह जानकारी सिस्टम में सेव कर ली जाएगी |

· इस जानकारी के एकत्रित के बाद आवेदनकर्ता को उसकी क्षेत्र में अर्थात उसके निवास के आस-पास ट्रेंनिंग सेंटर से जोड़ा जायेगा | जहाँ से आपको पूरी जानकारी दी जाएगी |

कौशल विकास योजना में स्वयं प्रधानमंत्री के साथ अरुण जेटली, सुरेश प्रभु, स्मृति ईरानी, जे. पी. नन्दा, मनोहर परिकर आदि बड़े नाम भी जुड़े रहेंगे | इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश की बेरोजगारी की समस्या को खत्म करके , देश को बेरोजगार मुक्त करने की है | जिससे देश की प्रगति हो सकें |

कुशल भारत योजना का मुख्य लक्ष्य देश के गरीब व वंचित युवा है, जिनके पास हुनर तो है पर उसके लिये कोई संस्थागत प्रशिक्षण नहीं लिया है और न ही इसकी कोई मान्यता उनके पास होती है। युवाओं के इस हुनर को प्रशिक्षण द्वारा निखारकर बाजार योग्य बनाकर प्रमाण-पत्र देते हुये उनके लिए रोजगार का सृजन करना ही इस योजना का मुख्य लक्ष्य है। प्रधानमंत्री ने इस योजना की घोषणा के समय ही स्पष्ट किया था कि कौशल भारत – कुशल भारत योजना का लक्ष्य युवाओं में कौशल के विकास के साथ-साथ उनका मूल्य संवर्धन करना है।

इस योजना का लक्ष्य भारत में तकनीकी शिक्षण प्रक्रिया में सुधार लाकर उसे विश्व मांग के अनुरुप ढालना हैं। इस योजना की घोषणा के समय पी.एम. मोदी ने भाषण देते हुये कहा था कि भारत में परंपरागत शिक्षा पाठ्यक्रम प्रचलन में जिससे कि हम विश्व में तेजी से हो रहे परिवर्तनों के साथ अपने आप को गतिशील नहीं बना पाये हैं और आज भी बेराजगार है। इसके लिये आवश्यक है कि हम अपने शैक्षिक पाठ्यक्रम में विश्व मांग के अनुसार बदलाव लाये। आने वाले दशकों में किस तरह के कोशल की माँग सबसे अधिक की जायेगी उसका अध्ययन करके अपने देश में उस अध्ययन के निष्कर्षों के अनुसार यदि युवाओं को प्रशिक्षित करेंगे तो भारत के युवाओं को रोजगार के सबसे अधिक अवसर मिलेंगे। इस तरह कौशल भारत – कुशल भारत एक आन्दोलन है, न कि सिर्फ एक कार्यक्रम।

विशेष कार्यक्रम को पूरा करने वाले युवाओं को मंत्रालय द्वारा प्रमाण-पत्र दिया जायेगा। एक-बार प्रमाण पत्र मिलने के बाद इस सभी सरकारी व निजी, यहाँ तक कि विदेशी संगठनों, संस्थाओं और उद्यमों द्वारा भी वैध माना जायेगा। प्रशिक्षण देने के लिये विभिन्न श्रेणियों को लिया गया है; जैसे: वो बच्चे जिन्होंने स्कूल या कॉलेज छोड़ दिया है, और कुछ बहुत अधिक प्रतिभाशाली लड़कें और लड़कियाँ आदि। इसके साथ ही गाँव के वो लोग जो हस्तशिल्प, कृषि, बागवानी आदि का परंपरागत कौशल रखते है, उनकी आय को अधिक करने और उनके जीवन स्तर में सुधार करने के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। कौशल भारत – कुशल भारत सम्पूर्ण राष्ट्र का कार्यक्रम है।
कौशल भारत – कुशल भारत मिशन के लाभ

कौशल भारत मिशन को अन्तर्गत मोदी सरकार ने गरीब व वंचित युवाओं प्रशिक्षित करके बेरोजगारी की समस्या और गरीबी को खत्म करने का लक्ष्य रखा है। इस मिशन का उद्देश्य उचित प्रशिक्षण के माध्यम से युवाओं में आत्मविश्वास को लाना है जिससे की उनकी उत्पादकता में वृद्धि हो सके। इस योजना के माध्यम से सरकारी, निजी और गैर-सरकारी संस्थानों के साथ साथ शैक्षिक संस्थाएं भी सम्मलित होकर कार्य करेंगी। इस मिशन के कुछ मुख्य लाभ निम्नलिखित है:

कौशल विकास योजना के माध्यम से युवाओं को प्रशिक्षित करके भारत में बेरोजगारी की समस्या के निवारण में सहायता।
उत्पादकता में वृद्धि।
भारत से गरीबी खत्म करने में सहायक।
भारतीयों में छिपी हुई योग्यता को बढ़ावा देने में सहायक।
राष्ट्रीय आय के साथ-साथ प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि।
लोगों की जीवन निर्वाह आय में वृद्धि।
भारतीयों के जीवन स्तर में सुधार।

कौशल भारत – कुशल भारत अभियान को जागरुकता अभियानों के साथ सभी लोगो को उनके हुनर में कुशल करके भारत से बहु-आयामी समस्याओं का निराकरण करना है। प्रधानमंत्री, श्री नरेन्द्र मोदी के शब्दों में, “मैं भारत को विश्व की कौशल राजधानी बनाने के लिये पूरे राष्ट्र को प्रतिज्ञा करने के लिये आह्वान करता हूँ।”

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 − 4 =