HomeEssay

Diwali Essay in Hindi 2018 : दिवाली पर निबंध (मेरा पसंदीदा त्योहार)

Like Tweet Pin it Share Share Email

मेरा प्रिय त्यौहार

दीपावली पर निबंध हिंदी में Essay on Diwali in Hindi

दीवाली या दीपावली अर्थात “रोशनी का त्योहार” शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिंदू त्योहार है। दीवाली भारत के सबसे बड़े और प्रतिभाशाली त्योहारों में से एक है। यह त्योहार आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है।

What is Diwali in Hindi दीवाली क्या है?

Diwali or Deepavali is the Hindu festival of lights celebrated every year in autumn in the northern hemisphere (spring in southern hemisphere).It is an official holiday in Fiji, Guyana, India, Malaysia, Mauritius, Myanmar, Nepal, Singapore, Sri Lanka, Suriname, Trinidad and Tobago, and recently Sindh Province in Pakistan. One of the most popular festivals of Hinduism, it spiritually signifies the victory of light over darkness, good over evil, knowledge over ignorance, and hope over despair.

Importance of Diwali Festival in Hindi दीपावली का महत्व

दीपावली का धार्मिक महत्व हिंदू दर्शन, क्षेत्रीय मिथकों, किंवदंतियों, और मान्यताओं पर निर्भर करता है। प्राचीन हिंदू ग्रन्थ रामायण में बताया गया है कि, कई लोग दीपावली को 14 साल के वनवास पश्चात भगवान राम व पत्नी सीता और उनके भाई लक्ष्मण की वापसी के सम्मान के रूप में मानते हैं।

अन्य प्राचीन हिन्दू महाकाव्य महाभारत अनुसार कुछ दीपावली को 12 वर्षों के वनवास व 1 वर्ष के अज्ञातवास के बाद पांडवों की वापसी के प्रतीक रूप में मानते हैं। कई हिंदु दीपावली को भगवान विष्णु की पत्नी तथा उत्सव, धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी से जुड़ा हुआ मानते हैं। दीपावली का पांच दिवसीय महोत्सव देवताओं और राक्षसों द्वारा दूध के लौकिक सागर के मंथन से पैदा हुई लक्ष्मी के जन्म दिवस से शुरू होता है।

दीपावली की रात वह दिन है जब लक्ष्मी ने अपने पति के रूप में विष्णु को चुना और फिर उनसे शादी की। लक्ष्मी के साथ-साथ भक्त बाधाओं को दूर करने के प्रतीक गणेश; संगीत, साहित्य की प्रतीक सरस्वती; और धन प्रबंधक कुबेर को प्रसाद अर्पित करते हैं कुछ दीपावली को विष्णु की वैकुण्ठ में वापसी के दिन के रूप में मनाते है। मान्यता है कि इस दिन लक्ष्मी प्रसन्न रहती हैं और जो लोग उस दिन उनकी पूजा करते है वे आगे के वर्ष के दौरान मानसिक, शारीरिक दुखों से दूर सुखी रहते हैं।

diwali par nibandh

History of Diwali in Hindi दीवाली का इतिहास

भारत में प्राचीन काल से दीवाली को हिंदू कैलेंडर के कार्तिक माह में गर्मी की फसल के बाद के एक त्योहार के रूप में दर्शाया गया। दीवाली का पद्म पुराण और स्कन्द पुराण नामक संस्कृत ग्रंथों में उल्लेख मिलता है जो माना जाता है कि पहली सहस्त्राब्दी के दूसरे भाग में किन्हीं केंद्रीय पाठ को विस्तृत कर लिखे गए थे।

दीये (दीपक) को स्कन्द पुराण में सूर्य के हिस्सों का प्रतिनिधित्व करने वाला माना गया है, सूर्य जो जीवन के लिए प्रकाश और ऊर्जा का लौकिक दाता है और जो हिन्दू कैलंडर अनुसार कार्तिक माह में अपनी स्तिथि बदलता है। कुछ क्षेत्रों में हिन्दू दीवाली को यम और नचिकेता की कथा के साथ भी जोड़ते हैं। नचिकेता की कथा जो सही बनाम गलत, ज्ञान बनाम अज्ञान, सच्चा धन बनाम क्षणिक धन आदि के बारे में बताती है; पहली सहस्त्राब्दी ईसा पूर्व उपनिषद में दर्ज़ की गयी है।

7 वीं शताब्दी के संस्कृत नाटक नागनंद में राजा हर्ष ने इसे दीपप्रतिपादुत्सव: कहा है जिसमें दिये जलाये जाते थे और नव दुल्हन और दूल्हे को तोहफे दिए जाते थे।

9 वीं शताब्दी में राजशेखर ने काव्यमीमांसा में इसे दीपमालिका कहा है जिसमें घरों की पुताई की जाती थी और तेल के दीयों से रात में घरों, सड़कों और बाजारों सजाया जाता था। फारसी यात्री और इतिहासकार अल बेरुनी, ने भारत पर अपने 11 वीं सदी के संस्मरण में, दीवाली को कार्तिक महीने में नये चंद्रमा के दिन पर हिंदुओं द्वारा मनाया जाने वाला त्यौहार कहा है।

दीपावली से लाभ-हानि Essay on Diwali Advantages and Disadvantages in Hindi

दीपावली से लाभ – दीपावली का पर्व मात्र एक त्यौहार नहीं है अपितु इस पर्व के कई लाभ भी हैं| जैसा की इस दिन घर एवं आसपास की जगहों की सफाई की जाती है, जिससे हमारा वातावरण शुद्ध होता है| लोग एक दूसरे के घर जाकर उनको बधाई संदेश देते हैं जिससे आपसी सद्भावना का विकास होता है और लोगों में मेलजोल बढ़ता है| दीपावली का पर्व हमें असत्य पर हुई सत्य की विजय का ज्ञान कर आती है और हमें हमेशा अज्ञानता, बुराइयों एवं असत्य से लड़ने के लिए प्रेरित करता है|

दीपावली से हानि – जैसा की हमने देखा कि दीपावली से मनुष्य को कई प्रकार के लाभ हैं, परंतु इन लाभों के अतिरिक्त दीपावली से कुछ हानियां भी है| दीपावली के दिन लोग शराब पीकरअशिष्ट आचरण करने लगते हैं एवं इस दिन लोग जुआ खेलते हैं और अपना पैसा बर्बाद करते हैं| दीपावली के दिन बहुत सारा पटाखा छुड़ाया जाता है जोकि वातावरण को प्रदूषित भी करता है और इस तरह से लोग दीपावली के लाभ को हानि में रुपांतरित कर देते हैं

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + nine =