HomeHealth

किसी अमृत से कम नहीं, महौषधि है गौमूत्र

Like Tweet Pin it Share Share Email

वैसे तो हिन्दू धर्म में गाय को माता का दर्जा दिया जाता हैं , यहाँ तक कि गाय के गोबर की पूजा भी की जाती है । भारत के लोग गाय के पेशाब और गोबर को बहुत ही पवित्र मानते हैं । लेकिन जब बात गौ मूत्र को पीने की आती है , तो बहुत सारे लोग अपना मुँह बना लेते है । जी हाँ , ये बात बिलकुल सही है कि हर इंसान और शायद आप भी गौ मूत्र पीने से इनकार करते होंगे । लेकिन शायद आप ये भूल जाते है कि इसके फ़ायदे कितने होते हैं ।

cow urine | आयुर्वेद की माने तो गौ मूत्र सेहत का खजाना हैं

अगर एक इंसान रोजाना सही मात्रा में गौ मूत्र पीता है तो उसे दिल की बीमारी , मधुमेह , कैंसर , टीवी , एड्स , माइग्रेन आदि कभी नहीं हो सकती हैं ।

गौ मूत्र स्वाद में गर्म , कसैला और कड़क जैसा जरूर लगता हैं , लेकिन ये जहर नाशक , जीवाणु नाशक और जल्दी ही पचने वाला होता है ।

आयुर्वेद की माने तो गौ मूत्र सेहत का खजाना हैं , ये सभी रोगों का नाश करता है । आयुर्वेद के अनुसार हमारे बॉडी के अंदर तीन दोषो की कमी बीमारियाँ होती हैं , लेकिन गौ मूत्र ये कमी पूरी कर देता है और हमारे शरीर को बिल्कुल सवास्थ्य रखता है । सबसे बड़ी बात तो यह है ये कभी ख़राब भी नहीं होता है , इसे आप काफी लम्बे समय तक भी रख सकते हैं । आयुर्वेद में गौ मूत्र से ही दवाइयाँ बनाई जाती हैं । यहाँ तक कि आयुर्वेद कहता हैं कि किसी अमृत से कम नहीं , महौषधि हैं गौ मूत्र !!!

loading...

Comments (3)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + eight =