HomeEssay

Blockchain in Hindi: ब्लॉकचेन तकनीक क्या है? ब्लॉकचेन इन हिंदी

Like Tweet Pin it Share Share Email

What is Blockchain in Hindi?

A blockchain, originally block chain, is a continuously growing list of records, called blocks, which are linked and secured using cryptography.

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है? Blockchain Kya Hai

ब्‍लॉकचेन तकनीक में क्रेता विक्रेता के मध्य सीधा ही पैसे का स्थानान्तरण किया जाता है इस ट्रांजेक्‍शन में किसी भी बिचोलिये की आवस्यकता नहीं होती है वर्तमान मैं दो लोगो के मध्य पैसो का स्थानान्तरण थर्ड पार्टी के माध्यम से ही होता है यह थर्ड पार्टी जैसे बैंक, पेपल , मनी ट्रान्सफर आदि होती है और हमें इस ट्रांजेक्‍शन के लिए सेवा शुल्क बहुत देना होता है जवकि ब्लॉकचेन में थर्ड पार्टी की आवस्यकता नहीं होती है और किसी प्रकार का सेवा शुल्क भी नहीं लगता है अथवा बहुत ही कम होता है इसके अलवा ब्लॉकचेन तकनिकी में किये गये ट्रांजेक्‍शन में बहुत कम समय लगता है। इसके अलावा ब्लॉकचेन पूर्ण रुपें सुरक्षित है।

2008-09 में बिटक्‍वाइन टेक्‍नोलॉजी द्वारा लाॅन्‍च की गई यह तकनीक बेहद जटिल है। इसे हैक करना मुश्किल समझा जाता है और यह कभी भी हुए सभी डिजिटल ट्रांजेक्‍शन का ब्‍योरा रखती है। साइबर क्राइम और हैकिंग को रोकने के लिए ब्‍लॉकचेन तकनीक को फुलप्रूफ सिस्‍टम के तौर पर जाना जाता है।

ब्लॉकचेन डिस्ट्रिब्यूटेड डाटा बेस होती है इसमें लगातार कई रिकार्ड्स को को संधारित किया जाता है जिन्हें ब्लॉक कहते हैं जिसमे प्रत्येक ब्लॉक अपने पूर्व के ब्लॉक से लिंक रहता है। इस तकीनीकी में हजारो कंप्यूटर पर इन्क्रिपटेड अथवा गुप्त रूप से डाटा सुरक्षित रहता है इसे पब्लिक लेजर भी कहते हैं इसे हैक करने के लिए सभी हजारो कंप्यूटर में एक साथ साइबर अटैक करना होगा जो की नामुमकिन है ब्लॉकचैन डिजिटल करेंसी बिटक्‍वाइन पर आधारित है।

बिटक्‍वाइन मुद्रा बिकेंद्रित क्रिप्टो करेंसी होती है जिसे कभी भी कही भी स्तेमाल किया जा सकता है इसे सातोशी नकामतो ने खोजा था यहाँ मुद्रा तेजी से लोकप्रिय हो रही है सन 2005 में जहा एक बिटक्‍वाइन की कीमत 5 रु थी बही आज की तारीख में एक बिटक्‍वाइन की कीमत लगभग 70000 रु है बिटक्‍वाइन पर किसी ब्याकित, सरकार या कम्पनी का स्वामित्व नहीं होता है।

इस कारण कभी किसी तररह का बेईमानी होती है तो उस पर कोई कार्यवाही भी नहीं हो सकती क्योकि यहाँ सरकार के कण्ट्रोल में नहीं है और सुरक्षित होने के कारण ड्रग्स स्मगलिंग आदि आपराधिक कार्यो में इसका दुरूपयोग बढ़ रहा है

भारत मैं हैकिंग रोकने और साइबर सिक्‍योरिटरी को बढ़ावा देने के लिए ब्‍लॉकचेन तकनीक लागू करने वाला आंध्र प्रदेश पहला राज्‍य है।

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six + 3 =