About US

हेल्लो मेरे प्यारे मित्रो ,

Himanshu Saxena ( Owner of Hindimedunia.com)

मैं हिमाँशु सक्सैना, बुलन्दशहर जिले(U.P.) का रहने वाला हुँ और मैं आपका Hindimedunia.com में  पुरे दिल से स्वागत करता हुँ | मैं एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर  हुँ और नोएडा की एक सॉफ्टवेयर कम्पनी में कार्यरत हूँ |

लोगो के दिमाग में आज भी यही बात जुबान पर रहती है कि जो कुछ भी है वो इंग्लिश से है, कुछ लोग तो ऐसे भी होते है जो कि इंग्लिश न बोलने वाले लोगो को कुछ समझते ही नहीं है| लेकिन वो लोग ये भूल जाते है कि भाषा से कुछ नहीं होता ज़नाब!!! कोई हिंदी मीडियम से पढ़ा होता है तो कोई इंग्लिश मीडियम से, असली बात तो दिमाग की होती है।

क्या आप जानते है कि पिछले दस बरसों में किसी अंतर्राष्ट्रीय आईटी कंपनी ने हिंदी इंटरनेट के क्षेत्र में दिलचस्पी नहीं दिखाई थी।

लेकिन अब वे हिंदी के बाजार में कूद पड़ी हैं । उन्हें पता है भारतीय कंपनियों ने अपनी मेहनत से बाजार तैयार कर दिया है । चूंकि अब हिंदी में इंटरनेट आधारित साँफ्टवेयर परियोजना लाना फायदे का सौदा है इसलिए चाहे वह याहू हो, चाहे गूगल हो या एमएएन, सब हिंदी में आ रहे है । माइक्रोसॉफ्ट के डेस्कटॉप उत्पाद हिंदी में आ रहे है ।

आईबीएम, सन माइक्रोसिस्टम और ओरेकल ने हिंदी को अपनाना शुरू कर दिया है । लिनक्स और मैकिन्टोश पर भी हिंदी आ गयी है । इंटरनेट साँफ्टवेयर एक्सप्लोरर, नेटस्केप, मोजिला और ओपेरा जैसे इंटरनेट बाजार को हिंदी को समर्थन देने लगे हैं । ब्लॉगिंग के क्षेत्र में भी हिंदी की धूम है । आम कंप्यूटर उपभोक्ता के कामकाज से लेकर डाटाबेस तक में हिंदी उपलब्ध हो गयी है ।

यह अलग बात है कि अब भी हमें बहुत दूर जाना है, लेकिन एक बड़ी शुरूआत हो चुकी है, और इसे होना ही था और इसी शुरुआत का हिस्सा बना है हमारा Hindimedunia.com , क्योंकि आप भी भली भाति जानते ही है क़ि भारत ऐसा देश है जहां हर गली, हर नुक्कड़, हर चौराहे से निकलती हैं अनगिनत कहानियां. लेकिन उन्हें अपनी भाषा, यानि हिंदी में आप तक पहुंचाने के लिए आ गया है Hindimedunia.com

अगर आपको Hindimedunia की पोस्ट अच्छी लगे तो अपने दोस्तों को भी जरूर शेयर करें |

धन्यवाद!!!